सपनों का सच

​रक्त पिपाशू मायावी से ,

 सपने मुझे डराते हैं।

लहू लुहान अंतर को करके, 

क्रंदन मुझे सुनाते हैं।

 मैं यूँ हीं सहमा सा बैठा,

 उनसे भागा जाता हूँ।

ये बातें भयभीत हैं करती, 

सो मैं तुम्हें बताता हूँ।

रात्रि कार छुप जाता जब,

तब अन्धकार बढ़ जाता है। 

ऐसी स्याह सी रातों में,

डर और उमड़ कर आता है।

डर को बढ़ता देख मेरा मन, 

हर क्षण विचलित होता है।

चढ़ते सूरज की आस में पापी, 

सारी रैना रोता है।

रातों की नींदें जब उड़ातीं, 

तब भोर की आस सुहानी है।

ग़र हो सैयम, तब समझो तुम,

सच है ये , नहीं कहानी है।

इस सच को भाषा में बुन पाना, 

सपनों से बईमानी है।

लो पुनः तुम्हे मैं चेत रहा,

सच है ये नहीं कहानी है।

Advertisements